International Journal of Humanities and Social Science Research

International Journal of Humanities and Social Science Research


International Journal of Humanities and Social Science Research
International Journal of Humanities and Social Science Research
Vol. 4, Issue 5 (2018)

सतना जिला का समन्वित ग्रामीण विकास हेतु विविध योजनाओं का भौगोलिक अध्ययन


प्रदीप सिंह

आर्थिक तथा सामाजिक कार्यकलापों का इस प्रकार से विकेन्द्रीकरण किया जाय तथा उन्हें इस प्रकार स्थापित किया जाय कि सम्पूर्ण क्षेत्र की प्रगति हो सके। इस प्रकार विकास का ढांचा खड़ा करने से विकासशील आर्थिक नियोजन को सुदृढ़ आधार प्राप्त हो सकेगा। सामाजिक, आर्थिक उन्नयन एवं संरचनात्मक परिवर्तन हेतु पूर्व नियोजन की प्रक्रिया एक अभिनव उपागम है जो मूलतः समाजवादी राष्ट्रों की देन है। समन्वित ग्रामीण क्षेत्रीय विकास की अवधारणा वर्तमान शताब्दी के सातवें दशक की देन है। विकास केन्द्र के सिद्धान्त का आशय ग्रामीण विकास के लिये सामाजिक आर्थिक कार्यों के केन्द्रित, विकेन्द्रीकरण के माध्यम स्वरूप योजना में संतुलित विधितंत्र के प्रयोग से है जो कार्यों के अन्र्तसंबंधित स्थिति की व्याख्या एवं उपयुक्त अवस्थिति के निर्धारण पर आधारित है।
Download  |  Pages : 62-67
How to cite this article:
प्रदीप सिंह. सतना जिला का समन्वित ग्रामीण विकास हेतु विविध योजनाओं का भौगोलिक अध्ययन. International Journal of Humanities and Social Science Research, Volume 4, Issue 5, 2018, Pages 62-67
International Journal of Humanities and Social Science Research International Journal of Humanities and Social Science Research