International Journal of Humanities and Social Science Research

International Journal of Humanities and Social Science Research


International Journal of Humanities and Social Science Research
International Journal of Humanities and Social Science Research
Vol. 6, Issue 3 (2020)

कोरोना वायरस के दौरान प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के राष्ट्र संबोधन की सोशल मीडिया पर प्रतिक्रिया


Sanjay Kumar

कोरोना बीमारी से लड़ने के लिए देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के द्वारा तीसरा राष्ट्र के नाम संबोधन 2 अप्रैल 2020 को किया गया। सबसे प्रथम संबोधन में जनता कर्फ्यू का आहवान किया गया तथा डॉक्टरों के प्रति आभार व्यक्त करने के लिए एक थाली और ताली कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसको देश की सारी जनता ने डॉक्टरों और इमरजेंसी सेवाओं में कार्य करने वाले कर्मचारियों के प्रति सम्मान पूर्वक 5:00 बजे थाली बजाकर अपनी भागीदारी सुनिश्चित की । दूसरे संबोधन में देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के द्वारा लॉक डाउन का आवाहन किया गया, किसका देश भर की जनता पूरे अच्छी प्रकार से पालन कर रही है। राष्ट्र के नाम तीसरे संबोधन पर देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के द्वारा एक और कार्यक्रम का आयोजन 2 अप्रैल को घोषित किया गया कि 5 अप्रैल को सभी देशवासी 9:00 बजे 9 मिनट तक मोमबत्ती,दीये जलाकर देश की एकता का प्रदर्शन करेगे। इस कार्यक्रम से देश भर में सकारात्मक और नकारात्मक दोनों प्रकार की प्रतिक्रिया सोशल मीडिया में मिल रही है बहुत से नागरिकों को यह उम्मीद थी कि इस राष्ट्र के नाम संबोधन में श्री नरेंद्र मोदी के द्वारा स्वास्थ्य सेवाओं पर किए जा रहे सरकार के प्रयासों के संदर्भ में देश को अवगत कराएगे लेकिन जब इस प्रकार की जानकारी राष्ट्र संबोधन में नहीं मिल पाई तो सोशल मीडिया में नकारात्मक प्रतिक्रिया भी सरकार के खिलाफ हुई इस आर्टिकल में उन्हीं कुछ प्रतिक्रियाओं को शामिल करके सोशल मीडिया के प्रभाव का अध्ययन किया जा रहा है ।
Download  |  Pages : 12-14
How to cite this article:
Sanjay Kumar. कोरोना वायरस के दौरान प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के राष्ट्र संबोधन की सोशल मीडिया पर प्रतिक्रिया. International Journal of Humanities and Social Science Research, Volume 6, Issue 3, 2020, Pages 12-14
International Journal of Humanities and Social Science Research International Journal of Humanities and Social Science Research