International Journal of Humanities and Social Science Research

International Journal of Humanities and Social Science Research


International Journal of Humanities and Social Science Research
International Journal of Humanities and Social Science Research
Vol. 8, Issue 4 (2022)

राजस्थान की राजनीति में महिलाओं की भूमिका (14वीं व 15वीं विधानसभा का तुलानात्मक अध्ययन)


गरिमा यादव

प्रस्तुत षोध पत्र में राजस्थान की राजनीति में महिलाओं की भूमिका का अध्ययन राजनीतिक दृष्टिकोण से किया गया है। इस षोध पत्र के अन्तर्गत राजस्थान की विधानसभा में महिलाओं का प्रतिनिधित्व, राजनीति में महिलाओं का प्रवेष तथा राज्य में नवीन क्षेत्रीय दलों का अध्ययन किया गया है। जब हम राजस्थान की राजनीति में महिलओं की भूमिका की बात करते है तो भारत के इतिहास में राजस्थान की वीरांगनायों का स्थान अद्वितीय रहा हैं। रानी कर्मवती, पद्मनि, हाड़ी रानी, मीरा, ब्रजकुमारी, चारण कवयित्री साधु जैसी विदुषी और चौहान रानी झालनदेवी व रानी सोमल देवी जैसी प्रषासनिक महिलाएॅ हुई हैं। आधुनिक युग में नारायणी देवी, अंजना देवी, रमा देवी, भगवती देवी स्नेलता वर्मा, कालीबाई, आदि महिलाओं सक्रिय योगदान दिया। यद्यपी राजस्थान का एककीकरण 30 मार्च 1949 को हुआ किन्तु प्रथम विधानसभा का गठन मार्च 1952 में हुआ अब तक 15 विधानसभाएॅ गठित हो चुकी है। इनमें 1079 महिलाओं ने चुनाव लड़ा 198 निर्वाचित होकर विधानसभा तक पहुॅची। 14वीं विधानसभा में 172 महिलाओं ने चुनाव लड़ा जिसमें से 28 महिला चुनाव जीत दर्ज की तथा 15वीं विधानसभा में 189 महिलाओं ने चुनाव लड़ा और 24 महिलाएं चुनाव में जीत दर्ज की। राजस्थान से अभी तक विधायक रही महिलाओं ने विधानसभा अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, मन्त्रिमण्ड़ल तथा मन्त्रिपरिषद्, तथा विभिन्न समितियों के सभापति जैसे महत्वपूर्ण पदों को सुषोभित किया हैं दूसरी विधानसभा के कार्यकाल में कोई महिला विधायक मन्त्रिपरिषद् में नही रहीं षेष सभी विधानसभाओं में षासन संचालन में महिलाओं की भागिदारी रहीं। श्री मति कमला को राजस्थान सरकार में पहली महिला उपमंत्री बनने का गौरव प्राप्त हुआ। राजस्थान की विधानसभा में विधायक रही महिलाओं में अनेक ऐसी महिला हे जिन्होने संसद में भी राजस्थान का प्रतिनिधित्व भी किया हैं। श्रीमति कृष्णेदकोर, वसुंधरा राजे, डा. गिरिजा व्यास, दिब्या सिंह, निर्मला कुमारी, संतोष अहलावत लोकसभा में प्रतिनिधित्व दिया तथा राज्यसभा में सर्वप्रथम प्रतिनिधित्व षारदा भार्गव लगातार तीन कार्यकाल तक राज्यसभा सदस्य रही। श्रीमती लक्षमीकुमारी चूण्डावत, श्रीमती षान्ती पहाडिया राजस्थान का प्रतिनिधित्व किया है।
Download  |  Pages : 1-4
How to cite this article:
गरिमा यादव. राजस्थान की राजनीति में महिलाओं की भूमिका (14वीं व 15वीं विधानसभा का तुलानात्मक अध्ययन). International Journal of Humanities and Social Science Research, Volume 8, Issue 4, 2022, Pages 1-4
International Journal of Humanities and Social Science Research International Journal of Humanities and Social Science Research